अब आयुर्वेद में मिलेगा बीमारियों को जड़ से ख़त्म करने का रास्ता !

जानें-आयुर्वेद-कैसे-करता-है-बीमारियों-को-जड़-से-खत्म
Ayurveda

अब आयुर्वेद में मिलेगा बीमारियों को जड़ से ख़त्म करने का रास्ता !

  • June 14, 2023

  • 88 Views

आयुर्वेद पुराने समय से ही काफी मशहूर दवाइयों में से एक माना जाता है। इसका इस्तेमाल करने से व्यक्ति का पुराने से पुराने बीमारी का खात्मा जड़ से हो जाता है। इसके अलावा हम आज के लेख में इसी के बारे में बात करेंगे की कैसे आयुर्वेद मदद करता है किसी भी बीमारी को जड़ से ख़त्म करने में, तो शुरुआत करते है आर्टिकल की ;

आयुर्वेदिक उपचार क्या है ?

  • आयुर्वेदिक उपचार वो होता है, जिसमे विकारों को जड़ से खत्म करना होता है। उचित एवं पोषक आहार, स्वस्थ पाचन प्रक्रिया, सकारात्मक जीवनशैली एवं पेड़-पौधों के साथ हम स्वस्थ एवं सेहतमंद जीवन का लक्ष्य पा सकते हैं। आयुर्वेद में प्रकृतिक संसाधनों में मौजूद घटकों के सक्रिय सहयोग का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे कि प्रोबायॉटिक्स।
  • आयुर्वेद के अनुसार वनौषधियों एवं जड़ीबूटियों में प्रकृति की उपचार क्षमता का खजाना शामिल होता है, इन्हीं जड़ीबूटियों एवं पेड़-पौधों के जरिए यदि हम प्रकृति के इस उपचार क्षमता रूपी खजाने का उचित मात्रा में सेवन करते हैं तो बीमारी जड़ से खत्म हो जाती है।

आयुर्वेद में कौन-कौन सी बीमारी का इलाज मौजूद है ?

  • आयुर्वेद में लगभग हर तरह की बीमारी का हल है फिर चाहे वो बीमारी छोटी हो या बड़ी, वो बीमारी शरीर के अंदुरनी हिस्से से जुडी हुई हो या बाहरी, इसमें हर तरह की दवाई मौजूद है।
  • दूसरी और आयुर्वेद से इलाज करवाने वाले लोगों को किसी भी तरह का नुकसान भी नहीं होता और उसकी बीमारी का खात्मा भी जड़ से हो जाता है।
  • वही आयुर्वेद में प्रोबायॉटिक्स भी प्रकृति में मौजूद लाभदायक जीवाणू-समूह है, जिसमें प्रकृति की ताकत अर्थात उपचार क्षमता विद्यमान होती है। ऐसे में शरीर में चिकित्सा वनौषधियों के साथ इसका इस्तेमाल कर लेने से उपचार क्षमता में कई गुना बढ़ावा हो जाता है, जिसके फलस्वरूप शरीर की रोग-प्रतिकार क्षमता में वृद्धि होती है, साथ ही शरीर की अन्य शारीरिक प्रक्रियाओं जैसे कि पाचन प्रणाली एवं चयापचय क्रिया में भी सुधार होता है।

आयुर्वेद में कौन-कौन सी बीमारियों का हल है के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर से जरूर संपर्क करें।

आयुर्वेद दवाई को कैसे ले ?

  • आयुर्वेद दवाई को लेने के तरीके सबके अलग-अलग है कुछ लोग इसे शारीरिक रूप से तंदरुस्त रहे तो इसको उपचार के लिए प्रयोग में लेते है। तो वही कुछ लोग इसे बीमारी में लेते है।
  • आयुर्वेदा के अनुसार आयुर्वेदिक दवाई लेने का सही समय सूर्योदय के समय, दिन के समय भोजन करते समय, शाम के भोजन करते समय और रात में इन दवाओं को लेने का सही समय तय है। वही आयुर्वेदिक दवाई का कोई नुकसान नहीं है लेकिन इसे गलत तरीके से अगर हम लेते है तो इसका नुकसान भी देखने को मिलता है। तो वही इन दवाइयों को लेने से पहले डॉक्टर से सलाह ले।

अगर आप किसी भी तरह की बीमारी का खात्मा जड़ से करने के लिए आयुर्वेदिक दवाई का इस्तेमाल करना चाहते है तो बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक का चयन करें।

सुझाव :

अगर आप सच में अपनी बीमारी का इलाज बिना किसी नुकसान के करवाना चाहते है तो आयुर्वेदिक दवाइयों का चयन करें। तो वही इन दवाइयों को लेने से पहले एक बार दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल का चयन जरूर करें।

निष्कर्ष :

किसी भी तरह की दवाई को इस्तेमाल करने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर संपर्क करें। और जब तक दवाई का डोस पूरा न हो जाए तब तक इस दवाई को लेना बंद न करें।