ऑयल पुलिंग क्या है और इससे संबंधित किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ?

AyurvedaAyurvedic DoctorUncategorized

ऑयल पुलिंग क्या है और इससे संबंधित किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ?

  • October 16, 2023

  • 143 Views

ऑयल पुलिंग एक पारंपरिक आयुर्वेदिक अभ्यास है जिसमें लगभग 15-20 मिनट तक खाद्य तेल, आमतौर पर नारियल या तिल का तेल, का एक बड़ा चम्मच अपने मुंह में घुमाना है। माना जाता है कि इस प्राचीन तकनीक के कई स्वास्थ्य लाभ है, खासकर मौखिक स्वच्छता के लिए। आइए देखें कि ऑयल पुलिंग क्या है और इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करते समय आपको किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, तो आप भी अगर दांत संबंधित समस्या से परेशान है तो लेख के साथ अंत तक बने रहें ;

ऑयल पुलिंग की प्रक्रिया क्या है ?

  • अपने मुँह में एक बड़ा चम्मच तेल डालें, और तेल अपने पसंद का चुने। 
  • तेल को अपने मुंह में 15 मिनट तक घुमाएं। गरारे करते समय अपने मुँह के सभी कोनों और कोनों को ढकना सुनिश्चित करें।
  • शुरुआती लोगों के लिए 15 मिनट कठिन हो सकते है, इसलिए 5 मिनट से शुरुआत करें और धीरे-धीरे समय बढ़ाकर 15 मिनट करें और तेल को थूक दो।
  • आराम से बैठें और अपने मौखिक माइक्रोबायोम को पुनर्संतुलित करने के लिए कुछ समय दें। 
  • अपना मुँह धोने के लिए गुनगुने पानी का प्रयोग करें। 
  • ऑयल पुलिंग के तुरंत बाद कुछ भी खाने से बचें। 
  • तेल को निगलने से बचें, क्योंकि इसमें विषाक्त पदार्थ और बैक्टीरिया हो सकते है, जिन्हें आपने अपने मुंह से निकाल दिया है।

ऑयल पुलिंग को किस तरह से करना है, इसके बारे में जानने के लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर का चयन करना चाहिए।

ऑयल पुलिंग कब करें ?

  • क्या आपको ब्रश करने से पहले या बाद में ऑयल पुलिंग करनी चाहिए, आयुर्वेद के अनुसार, अपने दांतों को ब्रश करने और अपनी जीभ को खुजलाने से पहले तेल खींचने की सलाह दी जाती है। 
  • यदि आपको रात या सुबह के समय ऑयल पुलिंग के बीच चयन करना हो, तो इसे हमेशा सुबह खाली पेट करना चाहिए। जब आप खाली पेट ऑयल पुलिंग करते है, तो अधिकतम एंजाइम युक्त लार निकलती है जो मुंह से विषाक्त पदार्थों और बैक्टीरिया को बाहर निकालने में मदद करती है।

 

ऑयल पुलिंग के फायदे क्या है ?

 

मौखिक स्वास्थ्य : 

ऑयल पुलिंग अपने मौखिक स्वच्छता लाभों के लिए प्रसिद्ध है। यह मुंह में हानिकारक बैक्टीरिया की संख्या को कम करने में मदद करता है, सांसों की दुर्गंध, कैविटी और मसूड़ों की बीमारी जैसी समस्याओं को रोकता है।

सफेद दांत : 

नियमित रूप से तेल खींचने से प्लाक और दाग-धब्बे कम होकर दांत सफेद हो सकते है।

मसूड़ों के स्वास्थ्य में सुधार : 

तेल खींचने से मसूड़ों में सूजन को कम करने में मदद मिल सकती है, जिससे मसूड़े स्वस्थ होते है।

विषहरण : 

कुछ लोगों का दावा है कि तेल खींचने से शरीर को विषहरण करने में मदद मिल सकती है, हालांकि इस पहलू पर वैज्ञानिक प्रमाण सीमित है।

प्राकृतिक उपचार : 

ऑयल पुलिंग मौखिक स्वास्थ्य को बनाए रखने का एक प्राकृतिक और रसायन-मुक्त तरीका है, जो वैकल्पिक उपचार चाहने वालों के लिए इसे एक आकर्षक विकल्प बनाता है।

ध्यान रखने योग्य बातें !

  • ऑयल पुलिंग के लाभों को प्राप्त करने के लिए स्थिरता महत्वपूर्ण है। इसे अपनी दिनचर्या में शामिल करें, आदर्श रूप से सुबह कुछ भी खाने या पीने से पहले।
  • हमेशा तेल को घुमाने के बाद थूक दें। इसे निगलने से विषाक्त पदार्थ और बैक्टीरिया आपके सिस्टम तक पहुंच जाते है।
  • नारियल या तिल के तेल जैसे खाद्य तेलों का ही प्रयोग करें। अखाद्य तेलों या आवश्यक तेलों के उपयोग से बचें, क्योंकि यदि ये निगल लिए जाएं तो हानिकारक हो सकते है।
  • यदि आप ऑयल पुलिंग में नए है, तो कम समय (5-10 मिनट) से शुरू करें और प्रक्रिया के साथ सहज होने पर इसे धीरे-धीरे बढ़ाएं।
  • ऑयल पुलिंग को आपकी नियमित मौखिक स्वच्छता दिनचर्या का पूरक बनाए। अपने दंत चिकित्सक की सलाह के अनुसार अपने दांतों को ब्रश करना और फ्लॉस करना जारी रखें।
  • यदि आपको पहले से कोई दंत संबंधी समस्या या चिंता है, तो ऑयल पुलिंग शुरू करने से पहले अपने दंत चिकित्सक से परामर्श लें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह आपकी विशिष्ट स्थिति के लिए सुरक्षित और उपयुक्त है या नहीं।
  • महत्वपूर्ण परिणाम देखने में कुछ समय लग सकता है। अपने ऑयल पुलिंग रूटीन में धैर्य रखें और लगातार बने रहें।
  • किसी भी अभ्यास की तरह, अत्यधिक तेल खींचने के भी दुष्प्रभाव हो सकते है। संभावित समस्याओं से बचने के लिए बेहतरीन दैनिक अवधि का पालन करें।
  • सर्वोत्तम परिणामों के लिए उच्च गुणवत्ता वाले बेहतरीन तेल का चयन आपको करना चाहिए।

 

ऑयल पुलिंग के लिए कौन-सा तेल बेहतर है ? 

  1. नारियल का तेल। 
  2. अरिमेडाडी थाईलम तेल। 
  3. तिल का तेल आदि। 

लेकिन इन तेल का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

सुझाव :

अगर आप दांतों से जुडी किसी भी तरह की समस्या से परेशान है तो इससे बचाव के लिए आपको ऑयल पुलिंग ट्रीटमेंट का चयन दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल से करना चाहिए। वहीं इस ट्रीटमेंट को आप नहीं कर सकते या आप अभी नए है इस ट्रीटमेंट को करने में तो आप इस हॉस्पिटल का चयन कर सकते है। वहीं इस हॉस्पिटल में अनुभवी डॉक्टरों के द्वारा मरीज की समस्या का समाधान किया जाता है।  

निष्कर्ष :

ऑयल पुलिंग संभावित मौखिक स्वास्थ्य लाभों के साथ एक सरल और प्राकृतिक तकनीक है। जब लगातार और अपनी नियमित दंत चिकित्सा देखभाल दिनचर्या के साथ अभ्यास करते है, तो यह स्वस्थ दांतों और मसूड़ों में योगदान दे सकता है। हालाँकि, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि हालाँकि ऑयल पुलिंग के कई वास्तविक लाभ हो सकते है, लेकिन इसकी प्रभावकारिता पर वैज्ञानिक शोध अभी भी जारी है। किसी भी नई प्रथा की तरह, यह सलाह दी जाती है कि ऑयल पुलिंग को अपने दैनिक जीवन में शामिल करने से पहले किसी स्वास्थ्य देखभाल पेशेवर से परामर्श लें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि यह आपकी आवश्यकताओं के लिए सुरक्षित और उपयुक्त है।

Ayurveda

आयुर्वेद की मदद से आप कैसे अपने जीवन शैली को बेहतरीन बना सकते है ?

  • September 19, 2023

  • 74 Views

आयुर्वेद पुरातन समय से लेकर अभी तक हमारे लिए काफी सहायक माना गया है, क्युकी इसमें स्वास्थ्य वर्धक औषधियाँ मौजूद होती है। इसलिए लोगों के द्वारा इसमें मौजूद बातों का अच्छे से पालन किया जाता है। इसके अलावा ये हमारे स्वास्थ्य के लिए किस तरह से सहायक माने जाते है, इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे :

 

स्वास्थ्य शरीर के लिए आयुर्वेद में किन बातों का रखें ध्यान ?

  • योग एवं ध्यान करें, क्युकी योग अन्त: मन या आत्मा का आहार है। यदि आप नियमित रूप से योग नहीं करते है, तो आपकी आत्मा को भोजन नहीं मिलेगा और वह कमजोर हो सकती है, बिलकुल आपके शरीर के समान। इसलिए बाहरी हमलों के खिलाफ अपने आप को तैयार करना बहुत जरूरी है। यह हमला शारीरिक भी हो सकता है और मानसिक भी। नियमित ध्यान से आप अपने मन और मस्तिष्क को मजबूत बना सकते है। 
  • वहीं योग एक मात्र ऐसा सहारा है जिसकी मदद से आप अपने मानसिक तनाव को कम करने में सहायक साबित हो पाते है और इससे आपकी एकाग्र शक्ति भी बढ़ती है । 
  • फिर आपको अपने शरीर को नियमित रूप से डिटॉक्सिफाई यानी शरीर से विषैले तत्व को बाहर निकालना बहुत आवश्यक है, क्योंकि हमारे रोगों का मुख्य कारण हमारे शरीर में पड़े हुए कुपित मल है। डिटॉक्सिफिकेशन से न केवल शरीर से जहरीले पदार्थ बाहर निकलते है, बल्कि इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। शरीर के नियमित डिटॉक्सिफिकेशन से आपका शरीर कई बीमारियों की रोकथाम में मदद करता है। 
  • स्वास्थ्य संबंधित सभी समस्याओं के लिए प्राकृतिक उपचार आयुर्वेद का मूल आधार है। विभिन्न जड़ी-बूटियों में औषधीय गुण होते है, जो विभिन्न रोगों से लड़ने के लिए आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाते है। हर्बल उपचार डिटॉक्सिफिकेशन प्रक्रिया में आपकी मदद करते है।  
  • आयुर्वेद का समग्र दृष्टिकोण लक्षणों की तुलना में समस्या के मूल कारण की पहचान करने पर काम करता है। स्वास्थ्य और उपचार के आयुर्वेदिक सिद्धांत तीन दोषों (वात, पित्त और कफ) के इर्द-गिर्द घूमते है। आयुर्वेद के अनुसार वात, पित्त और कफ का संतुलन अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करता है।
  • जब आप गलत भोजन करते है, तो आपके सिस्टम में अमा (Ama) या टॉक्सिन्स बढ़ जाते है और आपके शरीर में असंतुलन पैदा कर सकते है। इसलिए जरूरी है की आप सुबह एक गिलास गर्म पानी पिए और हल्का नाश्ता करें, दोपहर के भोजन के दौरान पेट भर खाना खाए, और जब सूरज अपने उच्चतम स्तर पर होता है तो रात का खाना जल्दी खाना चाहिए, ऐसे कुछ तरीके है जिनसे टॉक्सिन के निर्माण को रोका जा सकता है।
  • जैसे ही आप अपने दोष के अनुसार खाना शुरू करेंगे, तो आपका पाचन तंत्र मजबूत होगा। अपनी पाचन क्षमता को मजबूत करने वाले सही भोजन का चुनाव करके, हम अच्छे स्वास्थ्य और जीवन शक्ति की नींव को बनाते है।

इन बातों का ध्यान रखने के साथ-साथ आप कैसे अपने जीवन शैली को और बेहतर बना सकते है इसके बारे में जानने के लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर का चयन करना चाहिए। 

 

आयुर्वेद के फायदे क्या है ?

    • स्वस्थ आहार और आयुर्वेदिक इलाजों के माध्यम से जीवनशैली में संशोधन करके शरीर से अतिरिक्त चर्बी को कम करने में मदद मिलती है। आयुर्वेद खान-पान में सुधार लाकर एक स्वस्थ वजन को मेन्टेन करने में मदद मिलती है। ऑर्गेनिक और प्राकृतिक तरीकों से आप स्वस्थ त्वचा भी पा सकते है। 
    • योग, मेडिटेशन, ब्रीदिंग एक्सरसाइज, मसाज और हर्बल उपचारों का नियमित अभ्यास शरीर को शांत, डिटॉक्सिफाई और कायाकल्प करने में मदद करता है। ब्रीदिंग एक्सरसाइज शरीर पर सक्रमण को बनाए रखते है और कोशिकाओं में अधिक मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति करते है। 
    • उचित आहार की कमी, अस्वास्थ्य भोजन दिनचर्या, अपर्याप्त नींद, अनियमित नींद पैटर्न और खराब पाचन से सूजन हो सकती है। न्यूरोलॉजिकल रोगों, कैंसर, मधुमेह, हृदय संबंधी समस्याओं, फुफ्फुसीय रोगों, गठिया, और कई अन्य रोगों का मूल कारण सूजन से शुरू होता है। जैसे-जैसे आप अपने दोष के अनुसार खाना शुरू करते है, पाचन तंत्र मजबूत होने लगता है। सही समय पर कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन रक्त और पाचन तंत्र में विषाक्त पदार्थों को कम करके आप इस तरह की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है। 
    • आयुर्वेद के पंचकर्म में एनीमा, तेल मालिश, रक्त देना, शुद्धिकरण और अन्य मौखिक प्रशासन के माध्यम से शारीरिक विषाक्त पदार्थों को समाप्त करने का अभ्यास किया जाता है। यदि आप इन पंचकर्म को अपने शरीर पर करवाना चाहते है तो इसके लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक का चयन करना चाहिए। 
    • आयुर्वेदिक उपचार कैंसर की रोकथाम के लिए भी बहुत उपयोगी माने जाते है। शोधकर्ताओं का सुझाव है कि आयुर्वेदिक आहार और विश्राम तकनीक पट्टिका बिल्डअप को कम करने में मदद करते है। आयुर्वेदिक चिकित्सा जड़ी बूटियों विटामिन, खनिज और प्रोटीन की एक भीड़ प्रदान करती है। ये एक उचित खुराक में एक साथ मिश्रित होते है और प्रतिरक्षा संबंधी विकारों को रोकने और मुकाबला करने के लिए एक इष्टतम समय पर प्रशासित होते है।

 

सुझाव :

यदि आपका शरीर शारीरिक रूप से स्वास्थ्य नहीं है, तो इससे बचाव के लिए आपको दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल के संपर्क में आना चाहिए।

 

निष्कर्ष :

शरीर को स्वास्थ्य और तंदरुस्त कौन नहीं देखना चाहता है, लेकिन ये स्वास्थ्य तभी हो सकता है जब आपके द्वारा आपके खुद के शरीर का अच्छे से ध्यान रखा जाएगा। इसके अलावा आप खुद से तो अपने शरीर का जरूर से ध्यान रखें, लेकिन किसी भी तरह की समस्या आने पर आपको आयुर्वेद का भी सहारा लें लेना चाहिए। इसके अलावा किसी भी उपाय को अपनाने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर सलाह लें।