जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने के लिए कौन-से आयुर्वेदिक उपचार है सहायक ?

Joints Pain

जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को ठीक करने के लिए कौन-से आयुर्वेदिक उपचार है सहायक ?

  • November 6, 2023

  • 177 Views

आयुर्वेद, एक प्राचीन भारतीय समग्र उपचार प्रणाली, उपचार की एक श्रृंखला प्रदान करती है जो जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को प्रभावी ढंग से कम करती है। प्राकृतिक उपचार और जीवनशैली समायोजन में निहित, आयुर्वेदिक दृष्टिकोण व्यक्तिगत आवश्यकताओं के अनुरूप है, जो शरीर, दिमाग और आत्मा को संतुलित करने पर ध्यान केंद्रित करते है। यहां, हम कुछ सामान्य आयुर्वेदिक उपचारों के बारे में जानेंगे जो जोड़ों और मांसपेशियों की परेशानी को प्रबंधित करने और कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है ;

जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द होने पर आयुर्वेद कैसे है सहायक ? 

हर्बल उपचार : 

जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द से निपटने के लिए आयुर्वेद विभिन्न जड़ी-बूटियों के उपचार गुणों का उपयोग करता है। हल्दी, जो अपने सूजन-रोधी और एनाल्जेसिक गुणों के लिए जानी जाती है, का उपयोग अक्सर सूजन को कम करने और दर्द को कम करने के लिए किया जाता है। इसका सेवन गर्म दूध के साथ किया जा सकता है या पेस्ट के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता है। अदरक, एक और गुणकारी जड़ी बूटी है, जो सूजन को कम करने और मांसपेशियों के दर्द को कम करने में मदद करती है। अदरक की चाय का नियमित सेवन या इसे भोजन में शामिल करने से दर्द से राहत मिलती है।

आयुर्वेदिक तेल और मालिश :

आयुर्वेदिक तेल जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को प्रबंधित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। तिल, नीलगिरी और विंटरग्रीन जैसी जड़ी-बूटियों से युक्त तेल का उपयोग मालिश में किया जाता है। ये मालिश रक्त परिसंचरण में सुधार, कठोरता को कम करने और दर्द से राहत दिलाने में मदद करती है। आयुर्वेदिक मालिश में इस्तेमाल की जाने वाली तकनीक, जिसे ‘अभ्यंग’ के नाम से जाना जाता है, में हल्के लेकिन दृढ़ स्ट्रोक शामिल होते है, जो शरीर की प्राकृतिक उपचार प्रक्रिया को उत्तेजित करते है, जिससे दर्द वाली मांसपेशियों और जोड़ों को राहत मिल सकें।

आहार समायोजन :

आयुर्वेद जोड़ों और मांसपेशियों के स्वास्थ्य सहित समग्र स्वास्थ्य को बनाए रखने में संतुलित आहार के महत्व पर जोर देता है। सूजन को कम करने के लिए हरी पत्तेदार सब्जियाँ, जामुन और नट्स जैसे एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों वाले खाद्य पदार्थों की सिफारिश की जाती है। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों, अत्यधिक कैफीन और शराब से परहेज करने से भी जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को प्रबंधित करने में मदद मिल सकती है। गर्म और आसानी से पचने योग्य खाद्य पदार्थों का सेवन आयुर्वेदिक आहार संबंधी सिफारिशों का एक मूलभूत पहलू है।

योग और व्यायाम :

योग, आयुर्वेद का एक अभिन्न अंग है, विभिन्न आसन और स्ट्रेच प्रदान करता है जो विशेष रूप से जोड़ों के लचीलेपन में सुधार और मांसपेशियों को मजबूत करने के लिए डिज़ाइन किए गए है। योग का नियमित अभ्यास जोड़ों के स्वास्थ्य को बनाए रखने और मांसपेशियों के तनाव को कम करने में मदद करता है। इसके अतिरिक्त, जोड़ों को गतिशील रखने और समग्र फिटनेस बनाए रखने के लिए आयुर्वेद में मध्यम व्यायाम, जैसे चलना या तैराकी को प्रोत्साहित किया जाता है।

आंतरिक उपचार के लिए आयुर्वेदिक उपचार :

आयुर्वेद में, जोड़ों और मांसपेशियों में दर्द पैदा करने वाले विषाक्त पदार्थों को खत्म करने के लिए आंतरिक सफाई और विषहरण विधियों, जिन्हें पंचकर्म के रूप में जाना जाता है, की सिफारिश की जाती है। इन उपचारों में विषाक्त पदार्थों को निकालने और शरीर में संतुलन बहाल करने के लिए ‘स्नेहन’ (ओलेशन) और ‘स्वेदन’ (सूदेशन) जैसी प्रक्रियाएं शामिल हैं। इस शुद्धिकरण प्रक्रिया का उद्देश्य शरीर को फिर से जीवंत करना और दर्द को कम करना है।

जीवनशैली में संशोधन :

आयुर्वेद उपचार प्रक्रिया का समर्थन करने के लिए जीवनशैली में संशोधन के महत्व पर जोर देता है। जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द को कम करने के लिए पर्याप्त आराम, तनाव प्रबंधन तकनीक जैसे ध्यान और गहरी सांस लेने के व्यायाम और नियमित नींद का कार्यक्रम बनाए रखना आवश्यक है। समग्र कल्याण के लिए आयुर्वेद में काम और आराम के बीच सामंजस्यपूर्ण संतुलन बनाना महत्वपूर्ण है।

आयुर्वेद से जुडी किसी भी तरह की चीज का सेवन करने से पहले एक बार बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर से जरूर सलाह लें।

जोड़ों के दर्द के प्रकार और उनके लक्षण क्या है ?

  • कोहनी के जोड़ों का दर्द टेनिस या गोल्फ एल्बो की चिंताओं के कारण होता है।
  • कार्पल टनल सिंड्रोम के कारण कलाई में दर्द हो सकता है।
  • पैर के जोड़ों में दर्द एच्लीस टेंडोनाइटिस, प्लांटर फैसीसाइटिस और कैल्केनियल बर्साइटिस के कारण हो सकता है।
  • घुटने के जोड़ों का दर्द आमतौर पर ऑस्टियोआर्थराइटिस या रुमेटीइड गठिया के कारण होता है।
  • मुख्य रूप से, पैरों में जोड़ों का दर्द अत्यधिक उपयोग के कारण टूट-फूट और जोड़ों, हड्डियों, मांसपेशियों, स्नायुबंधन, टेंडन या अन्य कोमल ऊतकों में चोट लगने के कारण होता है।

ध्यान रखें :

शरीर की मांसपेशियों या जोड़ों में दर्द होने पर आपको इसके बचाव के लिए दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।

निष्कर्ष :

आयुर्वेद जोड़ों और मांसपेशियों के दर्द के प्रबंधन के लिए एक समग्र दृष्टिकोण प्रदान करता है। हर्बल उपचार, विशेष मालिश, आहार परिवर्तन, योग, आंतरिक उपचार तकनीक और जीवनशैली में संशोधन को शामिल करके, व्यक्ति प्रभावी ढंग से असुविधा को कम कर सकते है और अपने जीवन की समग्र गुणवत्ता में सुधार कर सकते है। इन उपचारों से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए व्यक्तिगत मार्गदर्शन के लिए एक अनुभवी आयुर्वेदिक चिकित्सक से परामर्श करने की सलाह दी जाती है। इन प्राचीन प्रथाओं को अपनाने से न केवल लक्षणों का समाधान होता है बल्कि एक स्वस्थ और अधिक संतुलित जीवन को भी बढ़ावा मिलता है।