आयुर्वेद की मदद से आप कैसे अपने जीवन शैली को बेहतरीन बना सकते है ?

weight-loss-through-balanced-diet
Ayurveda

आयुर्वेद की मदद से आप कैसे अपने जीवन शैली को बेहतरीन बना सकते है ?

  • September 19, 2023

  • 75 Views

आयुर्वेद पुरातन समय से लेकर अभी तक हमारे लिए काफी सहायक माना गया है, क्युकी इसमें स्वास्थ्य वर्धक औषधियाँ मौजूद होती है। इसलिए लोगों के द्वारा इसमें मौजूद बातों का अच्छे से पालन किया जाता है। इसके अलावा ये हमारे स्वास्थ्य के लिए किस तरह से सहायक माने जाते है, इसके बारे में आज के लेख में चर्चा करेंगे :

 

स्वास्थ्य शरीर के लिए आयुर्वेद में किन बातों का रखें ध्यान ?

  • योग एवं ध्यान करें, क्युकी योग अन्त: मन या आत्मा का आहार है। यदि आप नियमित रूप से योग नहीं करते है, तो आपकी आत्मा को भोजन नहीं मिलेगा और वह कमजोर हो सकती है, बिलकुल आपके शरीर के समान। इसलिए बाहरी हमलों के खिलाफ अपने आप को तैयार करना बहुत जरूरी है। यह हमला शारीरिक भी हो सकता है और मानसिक भी। नियमित ध्यान से आप अपने मन और मस्तिष्क को मजबूत बना सकते है। 
  • वहीं योग एक मात्र ऐसा सहारा है जिसकी मदद से आप अपने मानसिक तनाव को कम करने में सहायक साबित हो पाते है और इससे आपकी एकाग्र शक्ति भी बढ़ती है । 
  • फिर आपको अपने शरीर को नियमित रूप से डिटॉक्सिफाई यानी शरीर से विषैले तत्व को बाहर निकालना बहुत आवश्यक है, क्योंकि हमारे रोगों का मुख्य कारण हमारे शरीर में पड़े हुए कुपित मल है। डिटॉक्सिफिकेशन से न केवल शरीर से जहरीले पदार्थ बाहर निकलते है, बल्कि इससे रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है। शरीर के नियमित डिटॉक्सिफिकेशन से आपका शरीर कई बीमारियों की रोकथाम में मदद करता है। 
  • स्वास्थ्य संबंधित सभी समस्याओं के लिए प्राकृतिक उपचार आयुर्वेद का मूल आधार है। विभिन्न जड़ी-बूटियों में औषधीय गुण होते है, जो विभिन्न रोगों से लड़ने के लिए आपकी इम्यूनिटी को बढ़ाते है। हर्बल उपचार डिटॉक्सिफिकेशन प्रक्रिया में आपकी मदद करते है।  
  • आयुर्वेद का समग्र दृष्टिकोण लक्षणों की तुलना में समस्या के मूल कारण की पहचान करने पर काम करता है। स्वास्थ्य और उपचार के आयुर्वेदिक सिद्धांत तीन दोषों (वात, पित्त और कफ) के इर्द-गिर्द घूमते है। आयुर्वेद के अनुसार वात, पित्त और कफ का संतुलन अच्छा स्वास्थ्य प्रदान करता है।
  • जब आप गलत भोजन करते है, तो आपके सिस्टम में अमा (Ama) या टॉक्सिन्स बढ़ जाते है और आपके शरीर में असंतुलन पैदा कर सकते है। इसलिए जरूरी है की आप सुबह एक गिलास गर्म पानी पिए और हल्का नाश्ता करें, दोपहर के भोजन के दौरान पेट भर खाना खाए, और जब सूरज अपने उच्चतम स्तर पर होता है तो रात का खाना जल्दी खाना चाहिए, ऐसे कुछ तरीके है जिनसे टॉक्सिन के निर्माण को रोका जा सकता है।
  • जैसे ही आप अपने दोष के अनुसार खाना शुरू करेंगे, तो आपका पाचन तंत्र मजबूत होगा। अपनी पाचन क्षमता को मजबूत करने वाले सही भोजन का चुनाव करके, हम अच्छे स्वास्थ्य और जीवन शक्ति की नींव को बनाते है।

इन बातों का ध्यान रखने के साथ-साथ आप कैसे अपने जीवन शैली को और बेहतर बना सकते है इसके बारे में जानने के लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर का चयन करना चाहिए। 

 

आयुर्वेद के फायदे क्या है ?

    • स्वस्थ आहार और आयुर्वेदिक इलाजों के माध्यम से जीवनशैली में संशोधन करके शरीर से अतिरिक्त चर्बी को कम करने में मदद मिलती है। आयुर्वेद खान-पान में सुधार लाकर एक स्वस्थ वजन को मेन्टेन करने में मदद मिलती है। ऑर्गेनिक और प्राकृतिक तरीकों से आप स्वस्थ त्वचा भी पा सकते है। 
    • योग, मेडिटेशन, ब्रीदिंग एक्सरसाइज, मसाज और हर्बल उपचारों का नियमित अभ्यास शरीर को शांत, डिटॉक्सिफाई और कायाकल्प करने में मदद करता है। ब्रीदिंग एक्सरसाइज शरीर पर सक्रमण को बनाए रखते है और कोशिकाओं में अधिक मात्रा में ऑक्सीजन की आपूर्ति करते है। 
    • उचित आहार की कमी, अस्वास्थ्य भोजन दिनचर्या, अपर्याप्त नींद, अनियमित नींद पैटर्न और खराब पाचन से सूजन हो सकती है। न्यूरोलॉजिकल रोगों, कैंसर, मधुमेह, हृदय संबंधी समस्याओं, फुफ्फुसीय रोगों, गठिया, और कई अन्य रोगों का मूल कारण सूजन से शुरू होता है। जैसे-जैसे आप अपने दोष के अनुसार खाना शुरू करते है, पाचन तंत्र मजबूत होने लगता है। सही समय पर कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन रक्त और पाचन तंत्र में विषाक्त पदार्थों को कम करके आप इस तरह की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है। 
    • आयुर्वेद के पंचकर्म में एनीमा, तेल मालिश, रक्त देना, शुद्धिकरण और अन्य मौखिक प्रशासन के माध्यम से शारीरिक विषाक्त पदार्थों को समाप्त करने का अभ्यास किया जाता है। यदि आप इन पंचकर्म को अपने शरीर पर करवाना चाहते है तो इसके लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक का चयन करना चाहिए। 
    • आयुर्वेदिक उपचार कैंसर की रोकथाम के लिए भी बहुत उपयोगी माने जाते है। शोधकर्ताओं का सुझाव है कि आयुर्वेदिक आहार और विश्राम तकनीक पट्टिका बिल्डअप को कम करने में मदद करते है। आयुर्वेदिक चिकित्सा जड़ी बूटियों विटामिन, खनिज और प्रोटीन की एक भीड़ प्रदान करती है। ये एक उचित खुराक में एक साथ मिश्रित होते है और प्रतिरक्षा संबंधी विकारों को रोकने और मुकाबला करने के लिए एक इष्टतम समय पर प्रशासित होते है।

 

सुझाव :

यदि आपका शरीर शारीरिक रूप से स्वास्थ्य नहीं है, तो इससे बचाव के लिए आपको दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल के संपर्क में आना चाहिए।

 

निष्कर्ष :

शरीर को स्वास्थ्य और तंदरुस्त कौन नहीं देखना चाहता है, लेकिन ये स्वास्थ्य तभी हो सकता है जब आपके द्वारा आपके खुद के शरीर का अच्छे से ध्यान रखा जाएगा। इसके अलावा आप खुद से तो अपने शरीर का जरूर से ध्यान रखें, लेकिन किसी भी तरह की समस्या आने पर आपको आयुर्वेद का भी सहारा लें लेना चाहिए। इसके अलावा किसी भी उपाय को अपनाने से पहले एक बार डॉक्टर से जरूर सलाह लें।