एंडोक्राइन सिस्टम क्या है और ये कैसे हमारे शरीर के हार्मोन सिस्टम के साथ संबंधित है ?

Ayurvedic TreatmentHindi

एंडोक्राइन सिस्टम क्या है और ये कैसे हमारे शरीर के हार्मोन सिस्टम के साथ संबंधित है ?

  • September 9, 2023

  • 104 Views

अंतःस्रावी तंत्र जिसे एंडोक्राइन सिस्टम के नाम से जाना जाता है, इसके अलावा इस तंत्र को हार्मोन सिस्टम के नाम से भी जाना जाता है, जो हार्मोन बनाने वाली कई ग्रंथियों से बना होता है और इसका काम हार्मोन्स को बनाना और निकालना है। तो चलिए समझने की कोशिश करते है की क्या है, एंडोक्राइन सिस्टम और अगर इनमे कोई खराबी आ जाए तो आयुर्वेद में इसका क्या उपचार मौजूद है, इसके बारे में चर्चा करेंगे ;

क्या है एंडोक्राइन सिस्टम ?

  • एंडोक्राइन सिस्टम को हार्मोन सिस्टम के नाम से भी जाना जाता है। वहीं इस सिस्टम की बात करें तो ये कई ग्रंथियों से मिलकर बना है, जो हार्मोन्स को बनाता है और निकालता है। 
  • हार्मोन्स शरीर के केमिकल के संदेशवाहक होते है, जो कोशिकाओं के एक समूह से दूसरे समूह तक सूचना और निर्देश ले कर जाते है। इन हार्मोन्स से शरीर के कई कार्य नियंत्रित होते है।
  • वहीं हार्मोन एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैंड द्वारा बनाए जाते है और शरीर के अलग-अलग ऊतकों को रक्तप्रवाह में भेजे जाते है। यह उन ऊतकों को संकेत भेजते है कि उन्हें क्या करना चाहिए और क्या नहीं।

अगर आपके हार्मोन्स सही तरीके से कार्य करने में असमर्थ है, तो इससे बचाव के लिए आपको बेस्ट आयुर्वेदिक डॉक्टर का चयन करना चाहिए।

एंडोक्राइन सिस्टम या हार्मोन्स के द्वारा शरीर के कौन-से कार्य नियंत्रित होते है ?

  • इन हार्मोन्स के द्वारा व्यक्ति का सांस लेना काफी आसान हो जाता है। 
  • मेटाबॉलिज्म भी ठीक रहता है। 
  • रिप्रोडक्शन का भी नियंत्रण में रहना। 
  • संवेदी धारणा। 
  • चलने-फिरने में परेशानी का सामना न करना। 
  • यौन का अच्छे से विकास होना। 
  • शरीर के अन्य हिस्सों का भी अच्छे से विकास होना इसके कार्य में शामिल है।

अगर किसी कारणवश ये उपरोक्त कार्य आपके शरीर में नियंत्रित न रहें, तो इससे बचाव के लिए आपको इसका इलाज बेस्ट आयुर्वेदिक क्लिनिक से जरूर करवाना चाहिए।

एंडोक्राइन सिस्टम काम कैसे करते है ?

  • हार्मोन जब हमारे शरीर में उद्देश्य वाली जगह पर पहुंचते है तो उसके बाद एक रिसेप्टर से जुड़ जाते है। यह एक चाबी के तरह है, जो एक प्रकार के लॉक में फिट हो जाते है। जब इसके रिसेप्टर में हार्मोन सुरक्षित होते है, तो यह एक संदेश भेजते है। यह उद्देश्य साइट की एक विशेष कदम का कारण बनता है। यह हार्मोन रिसेप्टर्स कोर के अंदर या कोशिका की सतह पर मौजूद हो सकते है।
  • आखिर में हार्मोन पूरी ग्रंथियों के काम को नियंत्रित करते है, जो विकास, सुधार, प्रसार और यौन विशेषताओं के रूप में अलग-अलग चक्रों को प्रभावित करते है। हार्मोन अतिरिक्त रूप से प्रभावित करते है कि शरीर उनका इस्तेमाल कैसे करता है। यह ऊर्जा को इकट्ठा करने के साथ ही द्रव की मात्रा को भी नियंत्रित करते है। इसके अलावा यह रक्त में कुछ मात्रा में लवण और ग्लूकोज को नियंत्रित करते है। वहीं सीमित मात्रा में हार्मोन शरीर में ज़्यादा बड़ी प्रतिक्रियाओं को ट्रिगर कर सकते है।
  • भले ही हार्मोन पूरे शरीर में प्रवाहित होते है, लेकिन प्रत्येक प्रकार के हार्मोन सिर्फ कुछ एंडोक्राइन सिस्टम ग्लैंड्स और ऊतकों को प्रभावित करते है। जबकि कुछ हार्मोन सिर्फ कुछ ग्रंथियों को ही प्रभावित करते है। इस प्रकार दूसरे हार्मोन पूरे शरीर को प्रभावित करते है।

एंडोक्राइन सिस्टम कैसे हमारे स्वास्थ्य समस्याओं से जुड़ा हुआ है ?

  • डायबिटीज मेलिटस, जो अग्न्याशय द्वारा पर्याप्त इंसुलिन का उत्पादन नहीं करने या शरीर द्वारा मौजूद इंसुलिन पर प्रतिक्रिया नहीं करने के कारण हो सकता है।
  • हाइपोथायरायडिज्म में आयोडीन की अनुपस्थिति जैसे पर्यावरणीय या पोषण संबंधी कारण हार्मोन उत्पादन को प्रभावित कर सकते है।
  • आनुवंशिक कारण एंडोक्राइन सिस्टम की समस्याओं का मुख्य कारण हो सकते है, जिनमें खासतौर से डायबिटीज और ऑटोइम्यून थायरायडिटिस या हाशिमोटो थायरायडिटिस जैसी कई प्रकार की समस्याएं शामिल है।
  • अति सक्रिय थायराइड, अंडरएक्टिव थायराइड, ग्रेव्स की बीमारी यानी एक प्रकार का हाइपरथायरायडिज्म, जिसके कारण ज़्यादा थायराइड हार्मोन उत्पादन होता है। हाशिमोटो थायराइडिसिस में हाइपोथायरायडिज्म के कारण एक ऑटोम्यून्यून बीमारी और बाद में थायराइड ग्रंथि से संबंधित समस्याएं होती है।
  • एंडोक्राइन समस्या के प्रमुख कारण के बाद इसे ट्यूमर ग्रंथि के विकास या ट्यूमर से जोड़ा जा सकता है।

सुझाव :

हार्मोन्स के बिना हमारे शरीर का सही तरीके से कार्य करना मुश्किल होता है, इसलिए जरूरी है की अगर आपके शरीर में किसी भी तरह की समस्या नज़र आए तो इससे बचाव के लिए आपको जल्द किसी बेहतरीन डॉक्टर के सम्पर्क में आना चाहिए। इसके अलावा अगर एंडोक्राइन सिस्टम या हार्मोन्स में किसी भी तरह की समस्या नज़र आए तो इससे बचाव के लिए आपको दीप आयुर्वेदा हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए।